Sun Transit 2022 – सूर्य का वृषभ राशि मे गोचर | Surya Rashi Parivartan 2022
Loading...

Welcome to onegodmed

Please Login to claim the offer.

+91

* By proceeding i agree to Terms & Conditions and Privacy Policy

SignUp

Have An Account ? Login

Success

सूर्य का वृषभ राशि मे गोचर, इन राशियों की बदलेगी किस्मत

Blog

सूर्य का वृषभ राशि मे गोचर, इन राशियों की बदलेगी किस्मत

Sun Transit 2022 – सूर्य का वृषभ राशि मे गोचर, इन राशियों की बदलेगी किस्मत

Surya Rashi Parivartan 2022: जब भी सूर्य एक राशि से दूसरी राशि मे प्रवेश करता है तो इसका प्रभाव सभी 12 राशियों मे पड़ता है| जब सूर्य राशि परिवर्तन करता है तो इसको संक्रांति भी कहा जाता है| सूर्य राशि परिवर्तन का असर किसी राशियों मे कम होता है तो किसी राशि मे ज्यादा| हिन्दू ज्योतिशगढ़ के अनुसार वृषभ राशि पर सूर्य गृह गोचर करने जा रहे है| सूर्य को ग्रहों का राजा भी कहा जाता है| परंतु इसका प्रभाव बाकी राशियों पर भी पड़ेगा| यदि आप भी जानना चाहते है की सूर्य गोचर का आपकी राशि पर क्या प्रभाव पड़ेगा तो इस लेख को अंत तक पढे|

Surya Rashi Parivartan 2022 timing

इस वर्ष मई के महीने मे सूर्य गोचर करेंगे| सूर्य राशि परिवर्तन के समय सूर्य 15 मई रविवार को प्रातकाल 5:45 से लेकर 15 जून 12:19 तक वृषभ गोचर करेंगे|

ज्योतिष मे सूर्य की भूमिका

ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रह हमारे जीवन के अंधकार को खतम करके उसमे प्रकाश की ज्योति को उज्वलित करता है| जब भी सूर्य एक राशि से निकालकर दूसरी राशि मे प्रवेश करता है तो इस समय को बेहद ही शुभ माना जाता है| कहा जाता है, यदि इस समय आप धार्मिक कार्य करते है तो वे धार्मिक कार्य सफलतापूर्वक समाप्त होता है| जब भी सूर्य एक राशि से दूसरी राशि मे गोचर करता है तो इस शुभ समय को सौर मास भी कहा जाता है| हिन्दू धर्म के अनुसार सूर्य को अरुण, भानु, आदित्य, अर्क, भास्कर, दिनकर, रवी, आदि भी कहा जाता है| यदि किसी की कुंडली मे सूर्य शुभ स्तिथि मे हो तो वह व्यक्ति सम्मान के पात्र होते है| यदि किसी की कुंडली मे सूर्य गृह अशुभ स्तिथि मे हो तो उस व्यक्ति के जीवन मे रोग एवं संकट के बादल छा जाते है|

सूर्य गोचर के समय यह कार्य करने से मिटेगी सारी परेशानी

यदि आपकी कुंडली मे सूर्य का ओष है तो यह उपाय करने से दूर होंगी सारी समस्या|

  • प्रतिदिन भगवान श्री राम की पूजा करे|

  • सूर्य देव पर जल अर्पण करे|

  • सूर्य भगवान की पूजा करे|

  • सुबह प्रातकाल सूर्य देव का ध्यान करे|

  • आदित्य हृदय स्त्रोत का जाप करे|

  • लाल एवं केसरी रंग के वस्त्र धारण करे|

  • प्रातकाल अपने पिता या पितातुल्य के चरण स्पर्श करे|

  • तांबा, गुड, माणिक्य, आदि का दान करे|

सूर्य गोचर का राशि अनुसार प्रभाव और उपाय

सूर्य गोचर का वृषभ राशि पर प्रभाव: वृषभ राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके चौथे भाव के स्वामी माने जाते है| किसी भी राशि का चौथा भाव सुख, संपत्ति, भूमि एवं वाहन के भाव को दर्शाता है| इस सूर्य गोचर समय के दौरान सूर्यदेव वृषभ राशि के प्रथम भाव मे विराजमान होंगे जो की व्यक्तिगत, मासिक, एवं शारीरिक भाव होता है| इस समय के दौरान आपका प्रेम एवं स्नेह आपके परिवार के लिए ज्यादा झुकेगा| आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना पड़ेगा| आपको सर दर्द या मईग्रेन जैसी बीमारी हो सकती है| छात्रों के लिए यह समय बेहद ही अनुकूल है|

उपाय: प्रातकाल उठकर तांबे के बर्तन मे जल का ग्रहण करे| 108 बार ज्ञातृ मानर का जाप करे तथा सूर्य देव की पूजा करे|

सूर्य गोचर का मेष राशि पर प्रभाव: इस राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके पाचवे भाव यानि संतान, शिक्षा, मनोरंजन, तथा व्यावसायिक पाठ्यक्रम मे विराजमान रहते है| इस गोचर काल के दौरान सूर्य मेष राशि के दूसरे भाव यानिकी संपत्ति, परिवार एवं वाणी के भाव मे विराजमान होंगे| यह सूर्य गोचर आपकी वाणी मे बदलाव लेके आएगा| छात्रों के लिए यह समय बेहद ही अनुकूल है| आपको परिवार के सदस्यों से समर्थन की कमी महसूस होंगी| इस गोचर मे आपकी अपने कार्य के प्रति पकड़ ओर भी मजबूत होंगी|

उपाय: एक तांबे के बर्तन मे जल, कुमकुम, व चीनी मिलाए तथा सूर्य मंत्र का जाप करके उसे सूर्यदेव पर अर्पण करे|

सूर्य गोचर का मिथुन राशि पर प्रभाव: मिथुन राशि वालों के लिए सूर्य देव उनके तीसरे भाव यानिकी बाल, संचार, लघु यात्रा एवं भी बहन के भाव के स्वामी है| इस गोचर काल के दौरान सूर्य मिथुन राशि के बारहवें भाव यानि हानी, विदेश यात्रा एवं व्यय के भाव मे गोचर करेंगे| इस गोचर के दोरान आप शारीरिक एवं मानसिक ऊर्जा की कमी महसूस कर सकते है| इस समय आपको अपने इंद्रियों का ध्यान देना होगा क्योंकि इस समय आपको आँखों की एलर्जी या संक्रमण होने की संभावना है|

उपाय: रात्री मे सोने से पूर्व एक तांबे के बर्तन मे जल ले एवं उसे अपने सिरहाने रखदे| प्रातकाल उठकर उस पानी को अपने घर से बाहर फैक दे|

सूर्य गोचर का कर्क राशि पर प्रभाव: कर्क राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके दूसरे भाव यानिकी परिवार,धन एवं अभिव्यक्ति के स्वामी है| इस गोचर के दोरान सूर्य देव कर्क राशि के ग्यारवे भाव यानिकी लाभ, आए, मित्रता एवं विस्थार भाव मे निवास करेंगे| इस सूर्य गोचर के दौरान आप अपने मित्र या जानने वालों से मिलने के लिए काही दूर सफर करेंगे| व्ययवाहिक जातकों के लिए यह समय अपने जीवनसाथी के साथ प्रेम एवं स्नेह के साथ व्यतीत होगा|

उपाय: सूर्योदय के समय प्रातकाल उठकर सूर्य भगवान का स्मरण करे तथा आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करे|

सिंह राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: सिंह राशि के जातकों के लिए सूर्यदेव लग्न भाव के स्वामी माने जाते है| इस सूर्य गोचर के दौरान सिंह राशि के लिए सूर्य दसवे भाव मे गोचर करेंगे| सिंह राशि के जातकों के लिए यह गोचर उनके करियर मे मजबूती एवं उन्नति लाएगा| इस गोचर काल के दौरान आप अपनी प्रतिष्ठा बनाने मे सफल रहेंगे| माता पिता से संबंध मजबूत होंगे| पेशेवर रूप से यह गोचर आपके जीवन मे उन्नति लाएगा|

उपाय: जिस हाथ से आप कार्य करते है उस हाथ मे आप लाल तुरमली का ब्रेसलेट या अंगहूतही का ग्रहण करे| इससे सूर्य देव प्रसन्न हो जाएंगे|

कन्या राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: कन्या राशि वालों के लिए सूर्य बारवे भाव यानिकी मोक्ष्य, विदेश यात्रा, एवं व्यय के स्वामी है| इस गोचर काल के दौरान सूर्य कन्या राशि के नौवें भाव मे यानिकी की धर्म एवं भाग्य मे वास करेंगे| इस समय आपकी आध्यात्मिकता मे रुचि बनेगी| छात्रों के लिए यह अवधि अनुकूल है|

उपाय: रविवार के दिवस गाय को गुड एवं रोटी का सेवन करवाए| प्रातकाल उठकर गायत्रीमंत्र का जाप करे|

तुला राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: तुला राशि के जातकों के लिए सूर्य उनके ग्यारहवे भाव यानिकी लाभ एवं आया के स्वामी है| इस सूर्य गोचर काल के समय सूर्यदेव तुला रायसी के आठवे भाव यानिकी रहस्य, विज्ञान एवं अनिश्चितता भाव मे वास करेंगे| इस समय आप कुछ गंभीर विचारों मे खो सकते है| इस समय के दौरान आपको कमजोरी, शरीर दर्द एवं जलन की सामस्या हो सकती है|

उपाय: प्रातकाल के समय ॐ नामों भगवाते वासुदेवाए नमः का जाप करे| भगवान नारायण की पूजा करे|


मीन राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: मीन राशि के लिए सूर्यदेव उनके छठे भाव यानिकी विवाह, प्रतिस्पर्धा एवं सेवा के भाव के स्वामी है| सूर्य गोचर काल के समय सूर्य देव मीन राशि के तीसरे भाव यानिकी संस्कृत, संचार, भी बहन एवं कला के भाव मे वायस करेंगे| सूर्य गोचर के दोरान आप अपने सपनों पूर्ण करने हेतु महनत एवं लग्न से कार्य करेंगे| अपने कार्यस्थल पर कुछ बड़े बदलाव हो सकते है| जो जातक व्यवसाय मे है उनके लिए यह समय अनुकूल है|

उपाय: सूर्य देव की पूजा करे एवं प्रति दिन सूर्य सिद्धांत का पाठ अवश्य करे|

कुम्भ राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: कुम्भ राशि के जातकों के लिए सूर्य देव उनके वैवाहिक सुख, संगठन एवं यात्रा के भाव के स्वामी है| इस सूर्य गोचर काल के समय सूर्य देव कुम्भ राशि के चौथे भाव यानिकी भवन, माता का भाव वें सुख के भाव मे वास करेंगे| इस समय आपकी माता के साथ तनाव हो सकता है| सूर्य गोचर के दौरान आपको पित्त तहथ खासी की समस्या हो सकती है|

उपाय: प्रातकाल सुबह उठकर सूर्यदेव को प्रणाम करे एवं मंदिर मे गुड दान करे|

मकर राशि के लिए सूर्य गोचर का प्रभाव: मकर राशि के लिए सूर्य देव उनके आठवे भाव के स्वामी है| इस गोचर के समय सूर्य देव मकर राशि के पाचवे भाव मे विराजित होंगे| इस गोचर मे नई वस्तुए आपको खास प्रभावित करेंगी| स्वास्थ्य पर आपको खास ध्यान रखना होगा|

उपाय: प्रतिदिन प्रातकाल उठकर सूर्यदेव पर जल अर्पण करे| सुबह उठकर अपने पिता के चरण स्पर्श करे|

धनु राशि पर सूर्य गोचर का प्रभाव: सूर्य देव धनु राशि के जातकों के लिए भाग्य एवं भाव के स्वामी माने जाते है| इस गोचर के समय सूर्य देव धनु राशि के कहते भाव मे विराजमान होंगे| इस गोचर के समय अतीत की बीमारियों से छुटकारा पा सकते है| यह सूर्य गोचर छात्रों के लिए भाऊत अनुकूल सावित होगा|

उपाय: प्रातकाल नहाने के समय जल मे लाल चंदन एवं कुमकुम का पाउडर डालकर स्नान करना होगा|

वृश्चिक राशि के लिए सूर्य गोचर का प्रभाव: इस राशि के जातकों के लिए सूर्य देव दसवे स्थान के स्वामी है| सूर्य गोचर के समय सूर्य देव इस राशि मे सातवे स्थान पर विराजित होंगे| गोचर के समय आप के दिमाग मे नाकरात्मक विचार का संचार होगा| वो जातक जो की शादी शुदा नहीं है उनके विवाह के मौके भाध जाएंगे| स्वास्थ्य का खास ध्यान रखना पड़ेगा|

उपाय: अपने काम करने वाले हाथ पर छह बार कलावा या मोरी बांधे तथा अपने माथे पर कुमकुम का तिलक लगाए|


यदि आप सूर्य गोचर से संबंधित जानकारी चाहते है तो onegodmed की मदद ले सकते है| हमारी वेबसाईट की मदद से आप हमारे Certified Astrologer से कॉल या चैट के जरिए बात कर सकते है| हमारी वेबसाईट पर astrologers 24/7 मोजूद रहते है जो की आपको 100% सटीक एवं भरोसेमंद जानकारी प्रदान करेंगे| onegodmed पर आपकी सभी प्रकार की जानकारी सुरक्षित रहेगी| आप अपनी राशि से संबंधित सूर्य गोचर के उपाय की जानकारी ले सकते है| साथ ही आप जान सकते है की सूर्य गोचर पर क्या करना शुभ रहेगा|

Reading Articles

The Vast topics are covered and explained to educate you a little more !

Blog

What is Manglik Dosha in Kundli?

What is Manglik Dosha in Kundli? How can you calm down the fury of Mangal Graha, read to know ...

read more
Blog

क्या होता है मांगलिक दोष?

Mangal Dosh - क्या होता है मांगलिक दोष, इन उपाय ...

read more
Blog

लव मैरिज या अरेंज मैरिज?

Love marriage या Arrange Marriage - कुंडली के किस भाव से बन...

read more
Blog

शेयर मार्केट के लिए कौन सा ग्रह है शुभ

Share market me grah dasha - शेयर मार्केट के लिए कौन सा ...

read more

what client says

Client’s contentment is of paramount importance for us. Take a look at what our clients have to say about us.