शुक्र ग्रह 18 जून को करेंगे वृषभ राशि में गोचर
Loading...

Welcome to onegodmed

Please Login to claim the offer.

+91

* By proceeding i agree to Terms & Conditions and Privacy Policy

SignUp

Have An Account ? Login

Success

शुक्र ग्रह 18 जून को करेंगे वृषभ राशि में गोचर

Blog

शुक्र ग्रह 18 जून को करेंगे वृषभ राशि में गोचर

Venus Transit 2022: शुक्र ग्रह 18 जून को करेंगे वृषभ राशि में गोचर, इन राशियों पे रहेगी कृपा 


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सभी नौ ग्रह हमारी 12 राशियों पर एक निशचित समय सीमा के अंतर्गत प्रवेश करते हैं जिसका असर प्रत्येक राशि पर पड़ता है। ज्योतिष अनुसार सुख सुविधा, भोग, विलास, आदि का कारक ग्रह माने जाने वाले शुक्र ग्रह 18 जून को मेष राशि से निकलकर वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे जहां पर वह 13 जुलाई तक विराजमान रहेंगे। इस शुक्र गोचर की वजह से कुछ राशियों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा एवं कुछ राशियों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यदि आप भी जानना चाहते हैं कि शुक्र ग्रह का गोचर आपके कुंडली में किस प्रकार से प्रभाव डालेगा तो इस ब्लॉग को अंत तक पढ़े।


शुक्र गोचर का राशियों पर प्रभाव





मिथुन राशि: शुक्र ग्रह का यह गोचर आपके जीवन में नकारात्मक रूप से प्रभाव डालेगा जिसकी वजह से आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आर्थिक भाव को लेकर सावधान रहना होगा एवं फ़िज़ूल खर्ची से बचना होगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखे। वैवाहिक जीवन में जीवन साथी के साथ तर्क वितर्क से बचना होगा तभी रिश्तो में स्थिरता बनेगी। जो जातक विदेशों से जुड़ा व्यापार कर रहे हैं, उनके लिए यह समय लाभदायक होगा। 




मेष राशि: मेष राशि के जातकों के लिए शुक्र उनके प्रथम एवं द्वितीय भाग में विराजित होंगे। ऐसे में यह गोचर आपके परिवारिक एवं आर्थिक जीवन के लिए बहुत शुभ साबित होगा। परिवार में खुशी का माहौल बना रहेगा एवं सभी सदस्य एक दूसरे को सहयोग करते दिखाई देंगे। घर के वातावरण में शांति बनी रहेगी। किसी प्रकार का शुभ कार्य भी संपन्न हो सकता हैं। जो जातक साझेदारी से जुड़ा व्यापार कर रहे हैं, उनके लिए शुक्र गोचर अत्यंत शुभ साबित होगा। व्यवसाय में उन्नति होगी एवं नए अवसर प्राप्त होंगे। 



वृषभ राशि: वृषभ राशि के जातकों के लिए शुक्र उनके पहले भाग के स्वामी हैं। इस गोचर के समय शुक्र आपके प्रथम भाव में ही विराजमान रहेंगे। यह भाव आत्मा, मानसिक क्षमता एवं संस्कारित दृष्टिकोण को दर्शाता है। ऐसे में यह गोचर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण रहने वाला है। शुक्र देव की कृपा से आपका व्यक्तित्व निखार सबके सामने आएगा। साथ ही आपके स्वास्थ्य में सुधार आने की भी संभावना है। अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए किसी प्रकार की खरीदारी भी कर सकते हैं। शादीशुदा जातकों के लिए यह गोचर शुभ साबित होगा। मानसिक रूप से शांति एवं संतुष्टि रखने की जरूरत है क्योंकि किसी प्रकार की समस्या से आपको मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप लंबे समय से चल रही किसी समस्या से परेशान हैं तो शुक्र देव आपको उस समस्या से निजात दिलाने का कार्य भी करेंगे। 




कर्क राशि: कर्क राशि के जातकों के लिए शुक्र उनके चौथे भाव के स्वामी हैं परंतु इस गोचर के दौरान शुक्र ग्रह उनके एकादश भाव में विराजित होंगे। एकादश भाव मित्र, लाभ, आय और इच्छाओं को दर्शाता है। इस गोचर काल में आपको आपकी आय में वृद्धि देखने को मिलेगी। आय बढ़ने के साथ-साथ प्रमोशन मिलने की भी संभावना है। यह गोचर आपको आर्थिक रूप से भी फायदा प्रदान करेगा। यदि किसिका पुराना धन अटका हुआ है तो वह भी पुनः हासिल हो सकता है। यदि आप शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो उसके लिए समय अति उत्तम रहेगा। कार्य क्षेत्र के संबंध में भी यह गोचर जातकों को अपार सफलता प्रदान करेगा। इस समय आपको अपने सीनियर से भरपूर सहयोग मिलेगा। कठिन निर्णय लेने से पहले अच्छे से सोच विचार करे। 


यह भी पढ़ेंः Career Kundali - जन्म कुंडली से जाने कौन सा करियर है आपके लिए बेस्ट




सिंह राशि: इस राशि के जातकों के लिए शुक्र देव उनके तृतीय एवं दशम भाव में विराजित रहते हैं। इस गोचर काल के दौरान भी शुक्र ग्रह आपके इन्हीं भावों में विराजित रहेंगे। यह भाव आपके करियर, सामाजिक स्थिति एवं प्रसिद्धि को दर्शाते हैं। दशम भाव में शुक्र ग्रह का गोचर आपके कार्यक्षेत्र में सफलता प्रदान करेगा। इस समय आपका प्रमोशन होने या करियर में नए अवसर मिलने की संभावना है। ऐसे में इस समय आपको हर कार्य को इमानदारी से करना होगा। परिवार में सुख-शांति का वातावरण बना रहेगा। यदि आप शादीशुदा हैं तो किसी कारणवश जीवन साथी के साथ नोक-झोंक हो सकती है। 




कन्या राशि: शुक्र ग्रह कन्या राशि के जातकों के नौवें एवं दूसरे भाव में विराजित रहते हैं। शुक्र ग्रह के गोचर के दौरान वह कन्या राशि के नवम भाव में विराजित होंगे। इस समय आपका किसी यात्रा में जाने का योग बन सकता है। साथ ही आपको समाज में भी अपना मान सम्मान बढ़ता हुआ देखने को मिलेगा। शादीशुदा जातकों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। यदि आपकी अपने पार्टनर के साथ किसी बात पर नोकझोंक हो गई या वाद विवाद हो गया था तो उसे भी इस अवधि में दूर कर सकते हैं। पारिवारिक रूप से भी यह गोचर आपके लिए अनुकूल रहेगा। शुक्र देव के इस गोचर काल में आपका धर्म के प्रति झुकाव एवं सक्रियता भी बढ़ेगी। 




तुला राशि: तुला राशि के जातकों के लिए शुक्र ग्रह उनके आठवें एवं पहले भाव के स्वामी हैं। इस गोचर के दौरान शुक्र ग्रह उनके आठवे भाग में विराजित होंगे। आठवां भाव आपके विरासत, वाद विवाद, मनोगत विज्ञान, आदि को दर्शाता है। ऐसे में शुक्र ग्रह का आपके अष्टम भाव में होने से अचानक से धन लाभ होने की योग बन रहा है। स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से आपको थोड़ा सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि इस गोचर काल के समय छोटी-मोटी स्वास्थ्य संबंधित समस्या उत्पन्न हो सकती है। इस समय वाहन चलाते समय विशेष रूप से सावधानी बरतें एवं छोटी से छोटी समस्या के प्रति लापरवाही ना दिखाएं। शुक्र ग्रह के इस गोचर की वजह से आपका रुझान धर्म की ओर बढ़ेगा जिसके कारण आप धार्मिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे। इस अवधि में शादीशुदा जातकों का अपने जीवन साथी के साथ संबंध और भी मजबूत होगा। सपरिवार किसी धार्मिक यात्रा पर जाने का योग बनेगा। 




वृश्चिक राशि: इस राशि के जातकों के लिए उनके द्वादश एवं सप्तम भाव में विराजित रहते हैं एवं इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके सप्तम भाव में विराजित होंगे। यह भाव आपके साझेदारी, विवाह, आदि को दर्शाता है। शादीशुदा जातकों के लिए यह समय अत्यंत महत्वपूर्ण रहेगा क्योंकि इस दौरान आप अपने दांपत्य जीवन का आनंद लेंगे। लव लाइफ में और मजबूती आएगी। आपकी प्रोफेशनल लाइफ भी पहले से मजबूत होगी। वे जातक जो साझेदारी के व्यापार से जुड़े हैं, उनके लिए भी यह समय अति उत्तम रहेगा। यदि जातक विदेश जाने के इच्छुक हैं तो आपका यह सपना पूरा हो सकता है। आर्थिक जीवन में खर्चों पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। विवाह समारोह या किसी कार्यक्रम में धन का खर्चा हो सकता है। 




धनु राशि: धनु राशि के जातकों के लिए शुक्र ग्रह उनके एकादश भाव में विराजित रहते हैं परंतु इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके अष्टम भाव में विराजित होंगे। यह भाव स्वास्थ्य, दिनचर्या एवं कार्य को दर्शाता है। इस समय आपको अपने प्रेम जीवन में किसी प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए अपने लाइफ पार्टनर के साथ किसी प्रकार का वाद विवाद या बहस ना करें अन्यथा बात बढ़ सकती है। इस गोचर काल के दौरान आपके प्रतिद्वंदी भी सतर्क रहेंगे और लगातार आप की छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेंगे। इसी कारणवश शुरुआत से ही सावधान एवं सतर्क रहें। आर्थिक रूप से भी यह समय अनुकूल नहीं है क्योंकि भारी मात्रा में धन खर्च होने का अनुमान है। बैंक या अन्य किसी संस्थान से लोन लेने पर विचार बन सकता है। शादीशुदा जातक अपने जीवन साथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करेंगे। यदि आप किसी सरकारी नौकरी या अन्य परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो अपार सफलता मिलने का अनुमान है। स्वास्थ्य के प्रति थोड़ा सतर्क रहना होगा। 




मकर राशि: इस राशि के जातकों के लिए शुक्र ग्रह उनके दशम एवं पंचम भाव में विराजित रहते हैं परंतु इस गोचर काल में शुक्र आपके पंचम भाव में विराजित होंगे। यह भाव आपके प्रेम संबंध, आनंद, अवकाश, संतान एवं शिक्षा को दर्शाता है। शुक्र का गोचर प्रेम जीवन में अनुकूलता प्रदान करेगा। साथ ही शादीशुदा जातकों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। इस समय आप अपने जीवनसाथी के प्रति अधिक आकर्षित होंगे एवं उनकी इच्छाओ को पूरा करने के लिए तत्पर रहेंगे। छात्र जातकों के लिए भी यह गोचर आपके लिए शुभ साबित होगा। समाज में आपका मान सम्मान बढ़ेगा। 




कुंभ राशि: कुंभ राशि के जातकों के लिए शुक्र ग्रह उनके नौवें एवं चतुर्थ भाव में विराजित हैं। इस गोचर काल के दौरान शुक्र आपके चतुर्थ भाव में विराजित रहेंगे । यह भाव आपके पारिवारिक संबंधों, संपत्ति, आदि के भाग को दर्शाता है। ऐसे मे यह गोचर कुंभ राशि के जातकों के लिए खर्चे लेकर आ रहा है। इस समय आप किसी नए घर या वाहन को खरीदने की इच्छा जिताएंगे या फिर पुराने घर की मरम्मत एवं सजावट कराने हेतु धन का एक बड़ा भाग खर्च करेंगे। इस गोचर काल के दौरान कई जातकों को किसी कारणवश अपने घर से दूर जाना पड़ सकता है। साथ ही पिता की सेहत में भी कुछ गिरावट देखने को मिल सकती है इसलिए उनकी सेहत के प्रति सावधानी बरतनी होगी। कार्यक्षेत्र में आप अपना अच्छा प्रदर्शन देंगे एवं कार्यस्थल पर आपके सहकर्मी एवं अधिकारियों से तारीफ भी मिलेगी। नौकरी पेशा जातकों के प्रमोशन की संभावना है। 




मीन राशि: मीन राशि के जातकों के लिए शुक्र ग्रह उनके आठवें एवं तीसरे भाग में विराजित हैं। इस गोचर काल के दौरान शुक्र ग्रह उनके तीसरे घर में गोचर करेंगे। ऐसे में वे जातक जो कि मीडिया, कला या फिर अभिनय से जुड़े हुए हैं उन्हें अपने कार्य क्षेत्र में अपार लाभ की प्राप्ति होगी। इस राशि के जातक अपने अच्छे जीवन शैली से लोगों को आसानी से प्रभावित करेंगे एवं उनके दिलों में अपने लिए खास जगह बनाने में समर्थ रहेंगे। कार्यक्षेत्र में भी आपको अपार सफलता प्राप्त होगी। यह वह समय है जब आपकी मेहनत की वजह से आपकी आय में वृद्धि आएगी। इस समय आप किसी छोटी मोटी यात्रा पर भी जा सकते हैं। भाई बहनों का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा परंतु माता-पिता को कुछ स्वास्थ्य संबंधित समस्या हो सकती हैं इसलिए उनकी सेहत का खास ध्यान रखना होगा।


यह भी पढ़ेंः ज्योतिष में माता पिता और बच्चों के बीच संबंध

Reading Articles

The Vast topics are covered and explained to educate you a little more !

what client says

Client’s contentment is of paramount importance for us. Take a look at what our clients have to say about us.